Hindi story on drink and drive

Emotional Story In Hindi | एक प्रेरणादायक कहानी- इस भावनात्मक कहानी को पढ़ें कि कैसे एक लड़की को अपने माता-पिता का प्यार मिलता है जो उसकी सबसे गहरी इच्छा थी।

अनाथ बेटी को मिला माता-पिता का प्यार

आधी रात का समय था रोज की तरह एक चोर शराब के नशे में अपने घर की तरफ जाने वाली गली से झूमता हुआ जा रहा था, रास्ते में एक खंभे की लाइट जल रही थी, उस खंभे के ठीक नीचे एक 15 से 16 साल की लड़की पुराने फटे कपड़े में डरी सहमी सी अपने आँसू पोछते हुए खड़ी थी, जैसे ही उस चोर की नजर उस लड़की पर पड़ी वह रूक सा गया|

लड़की शायद उजाले की चाह में लाइट के खंभे से लगभग चिपकी हुई सी थी, वह चोर उसके करीब गया और उससे लड़खड़ाती जबान से पूछा तेरा नाम क्या है, तू कौन है और इतनी रात को यहाँ क्या कर रही है…?

Story In Hindi

लड़की चुपचाप डरी सहमी नजरों से दूर किसी को देखे जा रही थी उस चोर ने जब उस तरफ देखा जहाँ लड़की देख रही थी तो वहाँ चार लड़के उस लड़की को घूर रहे थे, उनमें से एक को वो चोर जानता था, लड़का उस चोर को देखकर झेप गया और अपने साथियों के साथ वहाँ से चला गया लड़की उस शराब के नशे में चोर से भी सशंकित थी फिर भी उसने हिम्मत करके बताया मेरा नाम रूपा है मैं अनाथाश्रम से भाग आई हूँ, वो लोग मुझे आज रात के लिए कहीं भेजने वाले थे, दबी जुबान से बड़ी मुश्किल से वो कह पाई…!

चोर:- क्या बात करती है..तू अब कहाँ जाएगी..!
लड़की:- नहीं मालूम…..!
चोर:- मेरे घर चलेगी…..?
लड़की मन ही मन सोच रही थी कि ये शराब के नशे में है और आधी रात का समय है ऊपर से ये शरीफ भी नहीं लगता है, और भी कई सवाल उसके मन में धमाचौकड़ी मचाए हुए थे!
चोर:- अब आखिरी बार पूछता हूँ मेरे घर चलोगी हमेशा के लिए…?

romantic poem in hindi

बदनसीबी को अपना मुकद्दर मान बैठी गहरे घुप्प अँधेरे से घबराई हुई सबकुछ भगवान के भरोसे छोड़कर लड़की ने दबी कुचली जुबान से कहा जी हाँ|

उस चोर ने झट से लड़की का हाथ कसकर पकड़ा और तेज कदमों से लगभग उसे घसीटते हुए अपने घर की तरफ बढ़ चला वो नशे में इतना धुत था कि अच्छे से चल भी नहीं पा रहा था किसी तरह लड़खड़ाता हुआ अपने मिट्टी से बने कच्चे घर तक पहुँचा|

कुंडी खटखटाई थोड़ी ही देर में उसकी पत्नी ने दरवाजा खोला और पत्नी कुछ बोल पाती कि उससे पहले ही उस चोर ने कहा ये लो सम्भालो इसको “बेटी लेकर आया हूँ हमारे लिए” अब हम बाँझ नहीं कहलाएंगे आज से हम भी औलाद वाले हो गए, पत्नी की आँखों से खुशी के आँसू बहने लगे और उसने उस लड़की को अपने सीने से लगा लिया।।

Story in Hindiआपके विचार हमारे लिए अनमोल हैं। कृपया बेझिझक हमें कमेंट सेक्शन में कविता पर अपने विचार या प्रतिक्रियाएँ बताएं।
आप हमसे यहाँ भी संपर्क कर सकते हैं- हमसे संपर्क करें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *